शायद तब एहसास करोगी

>> 10 February 2009

शायद तब एहसास करोगी
मेरे प्यार के छाँव तले
जब वो गुजरे दिन याद करोगी

यूँ तो जीवन की राहों में
कितने साथ मिले और बिछडे हैं
और ना जाने कितने
तेरे मेरे बीच खड़े हैं

अंतर्मन से मैं हूँ तेरा
एक दिन ये आभास करोगी
शायद तब एहसास करोगी

आज तुम्हारे घट में
संशय बीज किसी ने भर डाला है
या मेरे ही कुछ लफ्जों ने
दिल को घायल कर डाला है

जिस दिन तुम अपना समझोगी
तब मिलने की चाह करोगी
शायद तब एहसास करोगी

मन की बात नही समझोगी
म्रग्त्रसना बनकर भटकोगी
मैं बादल बनकर बरसूँगा
फिर भी प्यासी तड़पोगी

मेरे दिल में बसे प्रेम का
जिस दिन तुम विश्वास करोगी
शायद तब एहसास करोगी

15 comments:

Nirmla Kapila 10 February 2009 at 18:42  

bahut sunder abhivyakti hai

रंजना [रंजू भाटिया] 10 February 2009 at 18:56  

विश्वास ही प्रेम की प्रथम सीढ़ी है ...सुंदर लिखा आपने

अनिल कान्त : 10 February 2009 at 19:00  

रंजना जी और निर्मला जी आप दोनों का शुक्रिया

sunil 10 February 2009 at 19:04  

इतनी गहराई से लिखे हुए प्रेम के भाव .....सचमुच मान गए गुरु ....प्रेम और विश्वास का अनूठा संगम होना जरूरी होता है

विनय 10 February 2009 at 19:51  

बहुत ख़ूब, सुन्दर प्रस्तुति


------
गुलाबी कोंपलें | चाँद, बादल और शाम

Manorma 10 February 2009 at 20:17  

प्रेम में विश्वास की जरूरत को आपने बखूबी लिखा है .....गहरी अभिव्यक्ति है ...

रश्मि प्रभा 11 February 2009 at 12:31  

मेरे दिल में बसे प्रेम का
जिस दिन तुम विश्वास करोगी
शायद तब एहसास करोगी


bahut achhi.......

the pink orchid 11 February 2009 at 18:01  

bade hi saral shabdon mein gehri baat keh jaaana apne aap mein ek kala hai..aur aapko usmein paarangat haasil hai... :)

Champak 11 February 2009 at 20:36  

मुझे लिखने की शैली पसंद आई...इसलिए भी कि इस शैली में मुझे अपने लिखने कि शैली महसूस होती है ....प्रयास बहुत अच्छा है, और लिखते रहिये...

समय मिले तो मेरी कविताये पढियेगा...
http://kavisparsh.blogspot.com/

Prem Farrukhabadi 12 February 2009 at 09:07  

jindgi ki sachchai sweekar karna har kisi ke bas ki baat nahi.jahan man hai vahan tan, jahan tan hai vahan man hai. dono ke bagair astitv aur vyktitv ka aabhaas nahin kiya ja sakta hai.
khwabo aur khyalon ka pyar chhalawa hai,khud ke liye aur gairon ke liye .hakeekat ki chgattano se takrake jindgiyon ko bikharate sare aam dekha ja sakta.apne aap mein khoye rahna pyar nahi pagalpan hi ho sakta hai. khwabon aur khyalon ki baaten gairo ko lapetane ke liye istemaal ki jasakti hain.aisa vahi sochte jinhen kisi ka pyar nahin milta.kisi ke sampark mein aane se pataa lagata jindgi utni hasin nahin jitni khwabon khyalon mein lagti hai.

अनिल कान्त : 12 February 2009 at 11:06  

प्रेम जी आपने बिल्कुल सही कहा ....पूर्णतः सहमत

shama 12 February 2009 at 17:58  

Aap phone pe kya baat cheet huee, ye nahee batayenge ??Ye to pathakon ke saath naainsaafee hai...!

shama 12 February 2009 at 18:01  

Pata nahee ki is rachnaake liye kya tippanee dun??
Zindagee rozhee naye ehsaas dilaatee hai...zarooree nahee ke hame, jeevanme har us wyakteese apnaa man chaha ehsaas mile..."Zubaan to milee magar hamzubaan nahee miltaa...!"

Swarna 23 February 2009 at 17:34  

wow bahut bahut aache
really ati sundar krati,,,,

keep it up

Post a Comment

आपकी टिप्पणी यदि स्पैम/वायरस नहीं है तो जल्द ही प्रकाशित कर दी जाएगी.

Related Posts with Thumbnails

  © Blogger template Simple n' Sweet by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP